holding Sneeze: छींक रोकना पड़ सकता है भारी कभी ना करें यह गलती

Rate this post

नाक के बाहरी पटल में डस्ट के कारण या फिर मौसम के बदलाव के कारण छींक आना स्वभाविक है लेकिन कुछ लोग यह गलती करते हैं छींक रोकना भारी पड़ सकता है

Danger of holding Sneeze: छींक आना बहुत ही स्वभाविक बात है लेकिन कई लोग इसे रोक कर बहुत बड़ी गलती करते हैं क्योंकि ऐसा माना जाता है कि छींक आने से हमें यह पता चलता है कि हमारा स्वास्थ्य ठीक है और छींक आने के कारण की बात की जाए तो कई बार जब हमारी नाक में किसी भी प्रकार की गंदगी या धूल मिट्टी के कण चले जाते हैं तो हमारी नाक में एक अलग प्रकार की उथल-पुथल होने लगती है

जिसकी वजह से छींक आने लगती है यदि आपको छींक आती है तो नॉर्मल ढंग से छींक आने का क्या मतलब होता है कि आप बिल्कुल स्वस्थ हैं और आप किसी भी बीमारी से ग्रसित नहीं है लेकिन जब लोग छींक को रोकते हैं तो यह हमारी सेहत पर गहरा असर डालती है

इसे भी पढ़ें: Symptoms of Asthma: लंबे दिनों से आ रही खांसी हो सकती है अस्थमा का संकेत

थोड़े से मौसम के बदलाव होने पर छींक आना एक अलग बात है लेकिन यहीं पर यदि आपको नॉर्मल ढंग से छींक आती है तो इसका मतलब यह है कि आप बिल्कुल स्वस्थ हैं और छींक हमें कई सारी बीमारियों से बचाता है छींक आना इस बात का संकेत है कि यह हमारे शरीर में किसी भी प्रकार के इंफेक्शन को फैलने से रोकता है जब भी कोई व्यक्ति छींक मारता है तो उसे बहुत ही राहत महसूस होती है और नाक की सभी कोशिकाएं सामान्य रूप से स्थिर हो जाती हैं कभी भी छींक को रोकना नहीं चाहिए चलिए जानते हैं क्या कारण है और छींक रोकने के क्या नुकसान है

छींक रोकने से रप्चर इयर ड्रम की समस्या का शिकार हो सकते हैं

कई बार आपने खुद महसूस किया होगा कि जब आप छींक को रोकते हैं तो आपकी आंखें लाल हो जाती हैं और कभी-कभी तो आंखों से आंसू भी निकलने लगते हैं छींक को रोकने से आंख नाक और इयर ड्रम्स की ब्लड वेसल्स काफी ज्यादा कमजोर हो जाती हैं और जब भी कोई व्यक्ति एकाएक छींक को रोकता है तो उसकी आंखों के सामने हल्का अंधेरा सा छा जाता है और कई बार ब्लड प्रेशर के कारण बनी हवा डायग्राम में भी फंस जाती है और फेफड़ों से जाकर टकराती है वैसे यह ज्यादातर लोगों में नहीं होता है लेकिन फिर भी इसका बुरा प्रभाव हमारी सेहत पर पड़ता है

छींक रोकने के नुकसान: छींक रोकने के कारण ब्लड प्रेशर का प्रभाव हमारी आंख कान और नाक के पास पड़ता है जिसके कारण रप्चर इयर ड्रम की समस्या हो सकती है यदि आप बार-बार ऐसा करते हैं तो आपको कानों से कम सुनाई देने की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है क्योंकि छींक के रास्ते बैक्टीरिया शरीर से बाहर निकल जाता है यही यदि आप इसे रोकते हैं तो वह आपके कानों के पास पहुंच जाता है और कान में इंफेक्शन होने का कारण भी बनता है

छींक रोकना हो सकता है नुकसानदायक

छींक आने के कारण जो हमारे शरीर में बैक्टीरिया मौजूद होते हैं वह बाहर निकल जाते हैं लेकिन यदि आप इसे बार-बार रोकते हैं तो आपको गले से संबंधित बीमारियों की समस्या का सामना भी करना पड़ सकता है और कई बार बोलने और निगलने वाली चीजों में समस्याएं देखने को मिलती हैं यदि आप एक बुजुर्ग हैं और आपकी तरह छींक को रोकने का प्रयत्न करते हैं तो हवा में ज्यादा प्रेशर की वजह से आपकी पसली भी डैमेज होने की संभावना अधिक बढ़ जाती है इसलिए आपको कभी भी छींक रोकने का प्रयत्न नहीं करना चाहिए

विशेषज्ञों के अनुसार भी छींक आना स्वास्थ्य के लिए काफी ज्यादा लाभदायक होता है क्योंकि यह बैक्टीरिया को बाहर निकालने में मदद करता है और जो लोग छींक को रोक कर रखते हैं उन्हें यह सभी समस्याएं होने के साथ-साथ बैक्टीरिया फिर से शरीर में जाने के कारण कई सारी बीमारियां जन्म लेती हैं

Follow USGoogle News

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Stay Connected

3,691फॉलोवरफॉलो करें
0सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें
- Advertisement -

Latest Articles